आयुर्वेद बनाम एलोपैथ मामले मे बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण के खिलाफ अदालत की अवमानना पर सुप्रीम कोर्ट मे सुनवाई

आयुर्वेद बनाम एलोपैथ मामले मे बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण के खिलाफ अदालत की अवमानना पर सुप्रीम कोर्ट मे सुनवाई

आयुर्वेद बनाम एलोपैथ : जस्टिस हिमा कोहली की बेंच ने बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण से पूछा हलफनामा कहा है?

आयुर्वेद बनाम एलोपैथ मामले मे बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण के खिलाफ अदालत की अवमानना पर सुप्रीम कोर्ट मे सुनवाई

बाबा रामदेव के लिए पेश वकील बलबीर सिंह ने कोर्ट को बताया कि पतंजलि और बालकृष्ण की तरफ से हलफनामा दाखिल हुआ है…

कोर्ट ने कहा कि इन दोनो को हलफनामे दाखिल करने चाहिए थे लेकिन यहा एक ही हलफनामा किया गया है।दूसरा हलफनामा दाखिल नहीं किया गया

सुप्रीम कोर्ट ने हलफनामा दाखिल न करने को लेकर खेद जताने के नाराजगी जाहिर करते हुए कहा अदालत के आदेशों को हल्के में नहीं लिया जा सकता।

कोर्ट ने कहा 21 नवंबर के कोर्ट के आदेश के बाद भी अगले दिन कंपनी, बालकृष्ण और रामदेव द्वारा प्रेस कांफ्रेंस की गई।

कोर्ट ने कहा इस मामले पर आपकी माफी पर्याप्त नहीं क्योंकि सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही थी और पतंजलि विज्ञापन छापे जा रहा था।

कोर्ट ने कहा आपका मीडिया विभाग आपसे अलग नहीं है। आखिर आपने ऐसा क्यों किया?
आपको नवंबर में चेताया गया था,बावजूद इसके आपने प्रेस कॉफ्रेंस की।
कोर्ट ने कहा कि हमने आपका हलफनामा पढ़ लिया है। हम आपके माफीनामे से संतुष्ट नहीं है।
कोर्ट ने पूछा आपने एक्ट का उलंघन कैसे किया?
आपने कोर्ट को अंडरटेकिंग देने के बाद भी उसका उलंघन किया। आप परिणाम के लिए तैयार हो जाए।
कोर्ट ने पूछा क्या आपने एक्ट में बदलाव को लेकर मिनिस्ट्री से संपर्क किया?

कोर्ट ने बाबा रामदेव और बालकृष्ण को बैठने के लिए कहा…

कोर्ट ने कहा कि हमने पहले कंपनी और उसके MD को जवाब दाखिल करने को कहा था। जब उनकी तरफ से जवाब नहीं दाखिल किया गया तब उनको अवमानना नोटिस जारी किया गया।

कोर्ट ने बाबा रामदेव को फटकार लगाते हुए कहा
अदालत के आदेश को गंभीरता से लीजिए। आपने कोर्ट के आदेश के 24 घंटे के भीतर प्रेस कान्फ्रेस की। आप ऐड में प्रमोटर के तौर पर पेश होते है और आप दो महीने के बाद अदालत के समक्ष पेश हुए है।

कोर्ट ने देश की सेवा की दलील पर कहा कि आप देश की सेवा करने का बहाना मत बनाइए।

रामदेव के वकील बलवीर सिंह ने कहा कि भविष्य में ऐसा नहीं होगा। जो गलती हो गई है हम उसके लिए माफी मांगते हैं।
उसके बाद रामदेव ने भी अदालत से माफी मांगी।

कोर्ट ने पतंजलि, रामदेव, बालकृष्ण से कहा कि आपको परिणाम भुगतने होंगे। अगर आपको माफी मांगनी होती तो आप शुरुआत में ही कहते की हमें माफ कर दे। हमने आपको यहा बोलने दिया यही काफी है।
इसके बाद रामदेव की ओर से उनके वकील ने हाथ जोड़ कर माफी मांगते हुए कहा हम सुप्रीम कोर्ट से हाथ जोड़ कर माफी मांग रहे हैं।

कोर्ट ने कहा आप माफी भी सशर्त मांग रहे है?

इसपर रामदेव की ओर से कहा गया कि हम आज एक नया हलफनामा दाखिल करेगें

कोर्ट ने कहा हम आपके इस जवाब से संतुष्ट नहीं है क्योंकि आपको पहले ही समय दिया गया था।

कोर्ट ने स्पष्ट किया कि आपकी माफी स्वीकार नहीं है।हम अवमानना की कार्यवाही करेंगे।

कोर्ट ने कहा आपने क्या किया है,उसका आपको अंदाजा नहीं है।

रामदेव ने फिर कहा हम अदालत से इसके लिए माफी मांगते है।

जस्टिस कोहली ने सुनवाई के दौरान रामदेव पर टिप्पणी करते हुए कहा आप चाहे कितने ही ऊँचे हों लेकिन कानून आपसे ऊपर है। कानून की महिमा सबसे ऊपर है

जस्टिस हिमा कोहली ने कहा कि जो पहले हुआ उसके लिए आप क्या कहेंगे?
उन्होंने कहा आपको कोर्ट को दिए गए अंडरटेकिंग का पालन करना होगा। आपने हर बाधा तोड़ दी है और अब यह कहना है कि आपको खेद है। उचित नहीं

रामदेव के वकील ने कहा यह उनके लिए एक सबक होगा।

जस्टिस कोहली ने कहा हम यहां सबक सिखाने के लिए नहीं बैठे हैं। वो कहते हैं कि उन्होंने शोध किया है। इसलिए उन्हें एक बड़ा स्पष्टीकरण देना चाहिए और न केवल जनता को बल्कि अदालत को भी इसकी जानकारी दी जानी चाहिए।

रामदेव और बालकृष्ण के वकील ने कहा वो दोनों लोग कोर्ट के सामने आगे आकर व्यक्तिगत रूप से माफी मांगने को तैयार हैं।

केन्द्र की तरफ से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि जो कुछ हुआ वो नहीं होना चाहिए।

कोर्ट ने केंद्र से पूछते हुए कहा कोरोना का समय सबसे ज्यादा कठिन था। उस समय भी इलाज का दावा किया गया। उसको लेकर सरकार ने क्या किया है?

कोर्ट ने कहा कि हमें हैरानी है कि इतना सब कुछ के बावजूद केंद्र सरकार ने अपनी आंखें क्यों बंद रखी?

कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा की इसके लिए केवल चेतावनी काफी नही थी। कानून के हिसाब केंद्र में करवाई नही की।
कोर्ट ने य़ह बात तब कहीं जब केंद्र सरकार की तरफ से कहा गया कि हमने इस मामले पर इनको चेतावनी जारी की थी

कोर्ट ने कहा पहली बार अपराध हो और फिर दूसरी बार भी वही अपराध हो तो इसकी वजह से उस अपराध गंभीरता और दंड दोनों बढ़ जाते हैं।

Neha singh rathore hostel video CSK vs RCB IPL 2024: Who’ll win RCB vs CSK match? 15 Powerful Indoor Plants to Ward Off Negative Energy in Your Home Women Of My Billion – The New Project Priyanka Chopra Is Producing मालदीव जाने वाले भारतीय पर्यटको की संख्या में 33 प्रतिशत की गिरावट
Neha singh rathore hostel video CSK vs RCB IPL 2024: Who’ll win RCB vs CSK match? 15 Powerful Indoor Plants to Ward Off Negative Energy in Your Home Women Of My Billion – The New Project Priyanka Chopra Is Producing मालदीव जाने वाले भारतीय पर्यटको की संख्या में 33 प्रतिशत की गिरावट
Neha singh rathore hostel video CSK vs RCB IPL 2024: Who’ll win RCB vs CSK match? 15 Powerful Indoor Plants to Ward Off Negative Energy in Your Home Women Of My Billion – The New Project Priyanka Chopra Is Producing मालदीव जाने वाले भारतीय पर्यटको की संख्या में 33 प्रतिशत की गिरावट
Neha singh rathore hostel video CSK vs RCB IPL 2024: Who’ll win RCB vs CSK match? 15 Powerful Indoor Plants to Ward Off Negative Energy in Your Home Women Of My Billion – The New Project Priyanka Chopra Is Producing मालदीव जाने वाले भारतीय पर्यटको की संख्या में 33 प्रतिशत की गिरावट
Neha singh rathore hostel video CSK vs RCB IPL 2024: Who’ll win RCB vs CSK match? 15 Powerful Indoor Plants to Ward Off Negative Energy in Your Home Women Of My Billion – The New Project Priyanka Chopra Is Producing मालदीव जाने वाले भारतीय पर्यटको की संख्या में 33 प्रतिशत की गिरावट
Neha singh rathore hostel video CSK vs RCB IPL 2024: Who’ll win RCB vs CSK match? 15 Powerful Indoor Plants to Ward Off Negative Energy in Your Home Women Of My Billion – The New Project Priyanka Chopra Is Producing मालदीव जाने वाले भारतीय पर्यटको की संख्या में 33 प्रतिशत की गिरावट